Tag Archives: anti Hindu media

​अब भोगी नहीं बल्कि योगी शासन करेंगे 

​अब भोगी नहीं बल्कि योगी शासन करेंगे 
नरेंद्र मोदी द्वारा योगी अदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाये जाने का सिधा संकेत…. 
🚩 भांड मिडिया कितना भी विधवा विलाप करले… मोदी को तिल जितना भी फर्क नहीं पड़ता 
🚩 विकास एजेंडा के चलते मोदी की हिंदुत्व के लिये निष्ठा अप्रभावित 
🚩 सेक्युलर किडो को कब-कहाँ-कितनी पेस्टीसाईड देने हैं यह मोदी अच्छी तरह जानते हैं… ये किडे आज भले ही तुरंत खत्म नहीं किये जा रहे, लेकिन इनकी जड़ों को खोदना शुरू हो चुका हैं 
🚩 उत्तर प्रदेश के विकास सहित सांस्कृतिक रक्षा हेतु मोदी बेहद गंभीर व पूर्ण रूप से परिपक्व 
🚩 यह उत्तर प्रदेश में राम मंदिर सहित राम-राज्य स्थापित करने कि और एक एतिहासिक कदम
🚩 भविष्य में मोदी के और अधिक तेज धारी व खतरनाक रणनीति का आगाज 
जय जय श्री राम 🚩🚩🚩

प्रेश्यावृत्ती में लिप्त पत्रकारों के बुरे दिन

प्रेश्यावृत्ती में लिप्त पत्रकारों के बुरे दिन

आज जब हर तरफ़ बिकाऊ पत्रकारों का महाजाल नजर आता हैं वहीं सुरेश चव्हाण व सूधिर चौधरी जैसे पत्रकारों को पत्रकारिता बेहद अदभुत उदाहरण बनकर उभर रही हैं।

सुदर्शन न्यूज के सुरेश चव्हाण व जी न्यूज के सूधिर चौधरी ने बेधड़क व बेहिचक देशहित कि पत्रकारिता से सारे बिकाऊ पत्रकारों के होश उडा कर रख दीए हैं। देश के हर अति-संवेदन शील मसलों पर भारत विरोधी एजेंडा परोसने वाले दलाल पत्रकार बरखा दत्त, रविश कुमार, राजदीप सरदेसाई, करण थापर, पुन्यप्रसुन्न वाजपेयी, राहुल कवल व दीपक चौरसिया जैसे तमाम पत्रकार जगत के दिग्गज मानेजाने वालों कि मिलावटी पत्रकारिता कि धज्जिया उडाकर रखदि हैं।

बिकाऊ पत्रकारों ने जिस तरह निष्पक्ष व सेक्युलर निती को मुखौटा बना कर भ्रष्टाचारियों, कट्टरपंथियों व गद्दारों को जो सुरक्षा कवच दे रखा था वह तो धरासाहि हुवा ही हैं साथ ही नौबत यहाँ तक पहुंच गई हैं कि अब इन पत्रकारों को स्वयं के लिये सुरक्षा कवच खौजने कि नौबत आ पड़ी हैं। इन गद्दारों को सुज ही नहीं पा रहा कि हर पल उजागर होता अपना काला चेहरा ये किसकी चोली में छुपाये।

एक तरफ जहाँ इन बिकाऊ पत्रकारों व इनसे जुड़े AajTak, NDTV, ABP NEWS, IndiaToday, TimesOfIndia, IndianExpress, TheHindu जैसे नामी चैनल व अखबार अपनी विश्वसनीयता खोते जा रहे वहीं सोशियल मिडिया पर हर रोज जनता द्वारा इनको बुरी तरह लताड़ा जा रहा। इसी तरह सुदर्शन न्यूज, जी न्यूज, DNA, दैनिक भास्कर व प्रातःकाल जैसे तमाम देशभक्ति कि पत्रकारिता करने वाले माध्यम जनता कि आवाज बनकर उभरने लगे हैं।

देश में ही रहकर देशभक्त पत्रकारों कि राह कितनी कठीन हो सकती हैं यह सुदर्शन न्यूज व जी न्यूज चैनल को मिल रही धमकि से पता चल रहा। दिन के लगभग सैकडों काल पकिस्तान, दुबई, सीरीया जैसे देशों से इन चैनलों को मिल रहे जिसमें चैनल व पत्रकारों को उडाने कि धमकिया मिल रही। भारतीय सुरक्षा एजेंसीयों ने भी ऐसे हमलों कि आशंकाऔ कि पुष्टि कि हैं लेकिन फिर भी इनके हौंसले अडिग रूप से बुलंद हैं।

देशभक्त पत्रकारिता से बौखलाए विरोधियों ने सुरेश चव्हाण व सूधिर चौधरी जैसे पत्रकारों को नरेंद्र मोदी का पट्ठा व MOUTH PIECE जैसे कई नाम देने कि कोशिश कि लेकिन सोशियल मिडिया पर मोर्चा संभाली जागृत देशभक्तों के आगे विरोधियों को मूँह कि खानी पड़ रही। जनता ने बहुरूपियों व देशभक्तों को पहचानना सीख लिया हैं।  वे जानते हैं कि जो सत्य बताये वह सत्यवादी कहलाता हैं ना कि किसीका निजी पट्ठा या MOUTH PIECE।

वास्तव में भारतीय राजनैतिक व समाजिक परिवेश में हो रहा यह बदलाव बेहद अदभुत व अभुतपूर्व हैं। हालांकि बदलाव कि यह प्रक्रिया अभी शुरूआती जरूर हैं किंतु मात्र आरंभ ने ही भारत के टुकड़े करने वाले दुश्मन देशों व ताकतों के सपनों को चकना चूर करना शुरू कर दिया है। भारत विरोधी एजेंडा के जरिये अपना भविष्य बनाने वाले भाडे के टट्टूऔ के लिए अब अलार्म बज चुका हैं कि वे प्रेश्यावृत्ती के धंधे से बाज आये अन्यथा उनका भविष्य तो दुर वर्तमान भी संभलना मुश्किल हो जायेगा। यह भारत के मजबूत भविष्य कि शुरूवात हैं… यही वास्तविक #अच्छेदिन भी हैं।

हम आम जन देशभक्त पत्रकारों को समर्थन दे कर व #Presstitute पत्रकारिता को नकार कर देशहित में स्वयं कि भुमिका भी सुनिश्चित कर सकते हैं और हमें ऐसा करना ही होगा।

।। जयहिंद।। वंदेमातरम्।।

हैं कोई जवाब!!!

हैं कोई जवाब!!!

इतिहास के कुछ प्रश्न जिन्हें जितना समझोगे….
आपके लिये सत्य उतना छलक उठेगा…

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने आधा काश्मीर पाकिस्तान को जाने दिया और बाकी आधे को धारा 370 की बीमारी लगाकर विवादित बना दिया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जो भारत कि जीत रही लडाई के मध्य उठकर UN में चला गया और कहा कि काश्मीर का फैसला UN की मध्यस्थता और जनमत संग्रह से होगा?

वह कौन प्रधान्मंत्री था जिसने सुरक्षा परिषद् की स्थायी सदस्यता त्याग दी और उसके लिए चीन का समर्थन किया?

वो कौन सा प्रधानमंत्री था जिसने परमाणु परीक्षण पर अमेरीका से मिल रहे समर्थन को ठुकरा कर चीन को #NSG में बैठा दिया और आज वही चीन आज भारत के प्रवेश पर आपत्ति जता रहा?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने चीन से पंचशील जैसा मूर्खतापूर्ण समझौता किया और फिर आधा अरुणाचल गँवा दिया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने मैदान में बांग्लादेश की लड़ाई जीतकर भी मेज पर कश्मीर गँवा दिया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने श्रीलंका में हथियार भेज कर LTTE को खड़ा किया और गृह युद्ध कराकर श्रीलंका को अपना दुश्मन बनाया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने फिर श्रीलंका में अपने हज़ारों सैनिकों को मरवाया और श्रीलंकन तमिलों को भी भारत का दुश्मन बनाया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसके शासनकाल में नेपाल जैसा विश्वसनीय पड़ोसी चीन के हाथ में चला गया और भारत का दुश्मन बन गया?

वह कौन प्रधानमंत्री था जिसने भारत के संसाधनों पर मुस्लिमों का पहला हक बताया था?

वो कौन लोग थे जिन्होंने मोदी को वीजा ना देने के लिए अमेरिका को लिखे पत्र पत्र पर हस्ताक्षर किए थे?

वे कौन लोग थे जिन्होंने इशरतजहां जैसी आत्मघाती आतंकवादी को मासूम व बेटी व तीस्ता सीतलवाड जैसी दलाल को समाजसेवी बताया था?

वो कौन लोग थे जिन्होंने 2002 के दंगों में अपनी रोटियाँ सेकी और आज महलों में बैठकर सहिष्णुता का पाठ पढ़ा रहे?

वो कौन लोग हैं जिन्होंने हलफनामा पेश कर सुप्रीम कोर्ट में यह माना था कि भगवान राम का कोई अस्तीत्व नहीं वे केवल मिथ्या हैं?

वो कौन लोग थे जिन्होंने हिंदु-आतंकवाद को स्थापित करने के लिए तरह-तरह के षडयंत्रों में सैकड़ों निर्दोषों कि बली चढ़वा दि व दर्जनों निर्दोषों को सालों-साल जेल में सडने को मजबूर कर दिया?

वो कौन लोग हैं जिन्होंने JNU के देशद्रोही गद्दारों को नायक बनाने के लिए दिन-रात कमर कस ली थी?

और वे कौन से लोग हैं जो आज NSG में भारत की असफलता पर जश्न मना रहे हैं…?

जरा सोचिए!
देशहित में ना सही,
स्वयं कि जागरूकता के लिये ही सही…
एक बार………….. सोचिए तो!!!!

#WCFIndiasPride : Will Fight Back !

#WCFIndiasPride : Will Fight Back !

भारत में भारतीय संस्कृती को मिटाने वाली ताकतों ने अब आर्ट-आफ-लीवींग को नीशाना बनाया| दिल्ली में यमुना नदी के किनारे होने वाले आर्ट-आफ-लिवींग के अतंराष्ट्रीय सांस्कृतीक सम्मेलन जो कि यमुना नदी के किनारे ११ से १३ मार्च ११ से १३ मार्च को निर्धारीत हैं उसके पाछे तरह-तरह के विहाद फैलाया|

ये वही ताकते हैं जिन्होने कई तरीकों से हमारे पुज्य साधु-संतो के खिलाफ तरह-तरह के षडयंत्र रचते आ रहे हैं और जिस तरह साधु-संतो के पीछे बिकाऊ मिडीया भी अपनी एडीचोटी का जोर लगाती आया हैं उसी तरह इस बार भी मिडीया व बिकाऊ पत्रकार का एक वर्ग ने अपना बजार लगाने कमर कस था|

पर्यावरण के रक्षक उस समय कहाँ मर जाते हैं जब यमुना तट पर बडी-बडी बिल्डींगे निर्माण होती रहती हैं…मात्र तीन दिवसीय सांस्कृतीक कार्यक्रम में रौडे अटकाने के लिये सारा पर्यावरण प्रेम उमड पडा!!!

कुछ ही दिनो पहले पाकिस्तानी गायक गुलाम अली के कार्यक्रम का जब विरोध उठा था तब सारे विपक्ष व बिकाऊ मिडीया ने एक सुर में उसका साथ दिया था लेकिन भारत में ही भारतीय सांस्कृतीक कार्यक्रम के पक्ष में किसी ने आवाज बुलंद नहीं की!!!

यह एक सांस्कृतीक आतंकवाद का ही हिस्सा हैं जिसमें भारतीय संस्कृती को दबा कर खत्म करने का षडयंत्र चल रहा हैं जिसके तहत ही हमारी संत परमपरा पर रह-रह कर हमले होते रहे हैं|

हमे यह ठान कर चलना हैं कि इन मक्कारों कि चलने नहीं दि जायेगी… देश के हर राष्ट्रप्रेमी दिवार बन कर इनके विरोध में खडा नजर आयेगा

|| वंदेमातरम् ||

तय करलो…आप किसके साथ हो

तय करलो…आप किसके साथ हो ###

भारत-विरोधी मिडीया ने जिस तरह JNU के राष्ट्रद्रोही छात्र कन्हैया को नायक के तौर पर उभारा हैं यह आज हर भारतीय के लिये बेहद चिंतन व अध्यन का विषय बन चुका हैं….

जहाँ इस प्रकरण में भारतीय राजनीती के कई दिग्गजो का राष्ट्रविरोधी चरीत्र उजागर किया हैं वहीं भारत के कोने-कोने में भारत कि बर्बादी के लिये फैलाये जा रहे विष भरे तंत्र को भी उभार कर रख दिया हैं…

तरह-तरह के कई प्रकरणो ने आज राजनीतीक व समाजीक परिवेश को दो फाड में बाँट दिया हैं जिसमें….

दुसरी तरफ राष्ट्रवादी ताकते हैं…

दुसरी तरफ देश को बचाने वाले गीने-चुने पत्रकार व सोशियल मिडीया

दुसरी तरफ देश को समर्पीत, धर्म-रक्षक व कर्मठ संघठन, संत व राज सेवक

दुसरी तरफ देश का चौकन्ना खुफीया-तंत्र व सिमा पर डटे व बलीदान देते जवान

दुसरी तरफ शहीद होते जवानों का निर्भय, साहसीक परिवार

इस देश का अब कोई भी नागरीक स्वयं को निष्पक्ष नहीं रख सकता…कोई भी नागरीक भ्रमीत रहकर खुद को अलग नहीं रख सकता… हमे अपने भ्रम को दुर करना ही होगा…यदी हमने राष्ट्रवादीयो का साथ नहीं दिया तो स्वभावीक रूप से हमारी खामोशी राष्ट्रविरोधी ताकतों का समर्थन करती नजर आयेगी…क्युँ की यदी देश बर्बाद हुवा तो उसकी एक जिम्मेदार हमारी खामोशी भी होगी…

अगर आज हमने इसके पिछे देश के टुकडे-टुकडे करने वाले षडयंत्र को समझने तथा दुसरों को समझाने मे भुल या फिर देर कर दी तो हमे अपनी अगली पीढी को धरोहर में फिर एक बेडीयों में बंधा, खंड-खंड में बीखरा भारत सौपना होगा जिससे संभवतः उनका जिवन अनगीनत संघर्षों से भर जाये|

यह हकिकत हैं कि इन संघठीत रूप से उभरे गद्दारों के पिछे एक बहोत बडी शक्ती सुनीयोजीत तरीके से कार्यरत हैं और ये खुलेआम हमारे सामने कुछ भी कह सकते हैं, कर सकते हैं क्यों की इनके लिये कोई कानुनी हद नहीं…और हम परिवारीक जिम्मेदारीयों के बोझ तले इनके आगे कुछ नहीं कर सकते क्युँ की हम ना तो संघठीत हैं और ना ही कानुन हमें इसकी इजाजत देता हैं…

लेकिन कम-से-कम हम इनके विरूद्ध आवाज उठा कर दुसरो को जागृत व संघठीत कर सकते हैं…जो इनके विरूद्ध डटे हैं उनका समर्थन कर उनकें हाथ मजबुत कर सकते हैं….

एसा हमे करना ही होगा…..
तब जा कर ही हमारा लोकतंत्र सफल हो सकेगा|

|| जय हिंद || वंदेमातरम् ||

तोडने की साजीश

जरा सोचिये…

अखलाक (दादरी) के बहाने …!
हमें साम्प्रदायिक बनाया

रोहित (हेदराबाद) के बहाने ….!
हमें जातिवादी बताया

अब तृप्ती देसाई (शनि शिगणांपुर) के बहाने ..
हमें स्त्रीयों पर पाबंदी लगाने वाला
पुरूष प्रधान समाज साबीत किया जा रहा है…

चारों तरफ से घेरा जा रहा है..
हमें टुकडों में तोडा जा रहा हैं…
उकसाया जा रहा हैं ताकी हम अपनी सहनशीलता
को त्याग हिंसा पर उतर आये…

और यदी किसी ने उकसावे में प्रतीकार कर दिया तो फिर उससे प्रमाणीत किया जायेगा की भारत “असहनशील” हो गया हैं!!!

समजो इन विदेशी हाथो कि कठपुतली, इन सेक्युलर मक्कारो और मिडीयाई गद्दारों द्वारा फैलाई जा रही साजीशो को…

इस देश कि अखंडता तब तक सुरक्षीत नहीं जब तक देश का हिंदु जागृत व एकझुट नहीं!!!

विशेष:
” हिंदु ” कोई धर्म नहीं बल्की भारतीय जीवन शैली का नाम हैं| इस देश की मिट्टी में जन्मा हर शक्स जो भारतीय मिट्टी में पनपे विभीन्न धर्मों का अनुयायी हो अथया मानता हो कि उसके पुर्वज उनसे जुडे हुवे थे या वह जो भारतीय संस्कृती व सभ्यता से जुड कर खुद को भाग्यशाली मानता हो, वह एक “हिंदु” ही हैं|

हिंदु = जेन + सिख + बोद्ध + सनातन
(सभी धर्म जो देश कि ही मिट्टी में पनपे)

|| जागो और जगाऔ, देश बचाऔ ||

……..जन-जन को इसे भेजो…….

हिंदु विरोधी मिडीया का ताजा वार | शनि शिगणांपुर विवाद

आज कल बीकाऊ मिडीया शनि शिगणांपुर में स्त्रीयों के प्रवेश को लेकर बडी-बडी बहसो पर उतर आया हैं| यह वही भाडे के टट्टुवे पत्रकार हैं जो हिंदु-विरोधी रायता फैलाने की सुपारी उठा रखे हैं|

इन्हे मुद्दा नहीं भी मिले तो ये मुद्दा पैदा करने में माहीर हैं| तृप्ती देसाई नाम की महीला जिसने शनीशिंगापुर में महिलाऔ के प्रवेश पर हंगामा मचा रखा हैं वह पहले अन्ना और कांग्रेसी मंत्रीयों के साथ कई बार नजर आ चुकी हैं| जाहीर हैं, यह मुद्दा सुनीयोजीत तरीके से बनाया गया हैं| वास्तव में इस मुद्दे का धरातल हैं ही नहीं क्युँ की धार्मीक महीला स्वयं से ही शनीदेवता के दुर से ही दर्शन करेगी किंतु चंडाल चौकडी जिन्हे केवल बहस खडी करनी हैं वे किसी भी हद तक जा सकते हैं| तृप्ती देसाई – इस चंडाल चौकडी का तरोताजा उदाहरण हैं|

पहले भी मंदीरो में लडकीयों के जिन्स ना पहनने वाले जैसे बयानों के विरोध में हमारी मिडीया चेनलों की लम्बी-लम्बी बहसे तो जरूर ही सुनी होगी| इनबहसों में बयान देने वाले को संकुचीत सोच वाला व महीलाऔ के प्रती अव्यवहारी सोच वाला बताने कि हर पत्रकार कि होड सी लग जाती हैं| क्या किसी पत्रकार ने इस पहलु से इस पर बहस करने कि कोशिश कभी की हैं कि मंदिर में शालीनता व सादगी बनाये रखने कि दृष्टी से सही भी हो सकता हैं!!!

अब कुछ ही समय पहले कि इस खबर पर भी गौर किजीये….

मुंबई शहर कि विख्यात दरगाह हजीहली में वहाँ के ठेकेदारों ने स्त्रीयों के प्रवेश पर पुरी तरह से रोक लगा रखी हैं| इस खबर पर हमारे मिडीयाँ जगत को अब तक साँप सुँघा हैं|

इतना सन्नाटा पसरा हैं कि अभी तक मुंबई के लोग भी इस खबर से पुरी तरह वाकिफ ना हो सके हैं| कई मुस्लीम जोडे दरगाह तक साथ जाकर पुरूष वर्ग स्त्री को वहीं अकेले छोड कर अंदर जाना पड रहा हैं| किसी पत्रकार में हिम्मत हि नहीं हो सकी के वे इस मुद्दे पर बहस कर सके|

इनके समुदाय में इन कट्टर पंथीयों द्वारा जबरन थोपी गई बुर्का प्रथा पर पहले ही मिडीया जगत ने मोन धारण कर रखा था और स्त्रीयों के प्रती किये गये इस अव्यवहारीक प्रतीबंध पर भी ये पुरी तरह खामोश हैं|

एसे सेकडो उदाहरण भरे पडे हैं जब विदेशी पैसा पर पलने वाला मिडीया हिंदु धर्म के विरोध में खुलकर भौकता हैं लेकिन जब विदेशी धर्मो की बात आती हैं तो चुप्पी साध लेता हैं…

उदाहरणतया…
— साधु-संतो पर लगे आरोपों पर हफ्तो बहस करना किंतु विदेशी धर्मगुरूऔ के अपराधो पर खामोशी
— संतो के बयानो को ‘विवादीक’ बताना और विदेशी धर्मगुरूऔ के फरमानो व फतवों पर मौन
— हिंदु धर्म की विज्ञान प्रमाणीत मान्यताऔ को भी अंधविश्वास कि श्रेणी में खडा कर देना किंतु विदेशी धर्मो के निराधार व अंधविश्वासी प्रचलन को नजर अंदाज करना

|| जागो हिंदु, जागो ||