Tag Archives: hindu

क्या आप भी कत्लेआम पर हैरान हैं !!!!

क्या आप भी कत्लेआम पर हैरान हैं!!!

पाकिस्तान में हुवे कत्लेआम पर सिर्फ वहीं सोते हुवे मुरख शक्स हैरान हैं जीसने कभी हिंदुस्तान पर गुजरे मुगल साशन की रक्तरंजीत, दरींदगी, और वेहसीपने से भरे कांड कभी नहीं पढे !!!

उन्हे वाकई नहीं मालुम होगा कि किस-किस तरह के हथकंडे बाहर से आये बादशाहो नें हमारे देश के भोले-भाले लोगों पर अपनाये !!! Continue reading

Advertisements

हिंदुराष्ट्र यज्ञ में आहुती

अब वक्त आहुती का हैं!!!

कहीं घरवापसी पर मिडीया का मातम तो कहीं नाथुराम की देशभक्ति पर विपक्षीयों का छातीकुट!

कभी अयोध्या पर श्री राम मंदीर पर बहस तो कभी धारा ३७०, सामान्य कानुन कि गर्माहट Continue reading

सनातन धर्म को पहचानना जरूरी

एसे लाखो हिंदु हैं जो हिंदु परिवार में पैदा होकर भी हिंदु धर्म की महत्वता को अपनी पुरी जिंदगी में भी समझ ही नहीं पाते, और एसे लाखो हिंदु हैं जो हिंदु परिवार के होकर भी हिंदु धर्म को न मानते हुवे उसपर प्रश्न उठाते हैं या हिंदु धर्म की बुराई में लगजाते हैं, एसे लाखो हिंदु भी हैं जिन्हे अपना धर्म न भाकर गैर धर्मो को मानते हुवे अपना धर्म बदललेते हैं….. अब सोचो, ये लोग किस तरह से अपने सौभाग्य को दुर्भाग्य समझकर ठोकर मार देते हैं !!! Continue reading

अखबार या “सेकुलरिज्म” का मीठा जहर !!!

The slow poison for secularism!

The slow poison for secularism!

नवभारत टाईम्स, कहने को तो हिंदी अखबार हैं लेकीन हिंदुओं के दिमाग में सेक्युलरता का किडा भरने का मशिनरी हथकंडा!!!

जी हाँ, इन अखबारों में हिंदु लेखकों के नाम पर छपने वाले लेख सुनीयोजित तरीके से भारतीय सभ्यता पर निरंतर हमला करने के इरादे से लिखेजाते हैं जो कि पढने पर तो सेकुलरता कि मूरत लगेंगे लेकिन ये वो मीठा जहर होते हैं जो हिंदुओं में हिंदुत्व नष्ट करने का खेल खेलते हैं। Continue reading

आजादी के संग्राम का अब तांडव मचाने आया हुँ (कविता)

अब तांडव मचाना हैं !!!

अब तांडव मचाना हैं !!!

आजादी के संग्राम  का अब तांडव मचाने आया हुँ।
खाली हाथ नहीं आया साथ कफन भी लाया हुँ।

मंद हवा थम चुकी अब तुफान आने को हैं
सब्र का बांध टुट चुका सैलाब आने को हैं
दिलदहला देने वाला मंजर खडा कर दूंगा
और इंतजार नहीं अब इंकलाब आने को हैँ। Continue reading

आखिर क्यों हम गांधीगिरी को याद रखे!!!

Gandhigiri

Gandhigiri

गांधीगीरी सिद्धांत हमें सिखाता है …

कोई भी एक गाल पर थप्पड़ मारे, तो उसे दुसरे गाल पर मारने को कहो!

लेकिन अगर वो दुरे गाल पर और भी ज्यादा जोर से थप्पड़ मारे तो!

इस सिद्धांत के पास कोई जवाब नहीं।

उसपर भी जब आजके वक्त में हर आतंकवादी के हाथ में AK47 है, तब इस तरह के सिद्धांत का कोई अस्तित्व ही नहीं।

हमें यह नहीं भूलना चाहिए की हमारे सभी देवी और देवताओं के एक हाथों में शश्त्र हमेशा से हैं और समय समय पर हमेशा उन्होंने इसे इस्तेमाल भी किया है।

तो मुद्दे की बात ये हैं की, किसी भी इस तरह के सिद्धांत पे विश्वास नहीं करे, जरुरत हैं हमारे “शाश्त्र ” और “शस्त्र” पर विश्वास करने की।

जय हिन्द! जय भारत!!!

हिंदु धर्म गुरुऔ: अब तो जाग उठो!!!

आसाराम बापु पर यह पहली दफा नहीं था की उनके खिलाफ साजीश रची गई। इससे पहले भी कई साजीशों की कोशिश कि जा चुकी हैं और हर छोटी-बडी साजीशों को दलाल मिडीया ने पुरे जोर शोर से उठाया भी लेकीन सारी की सारी कोशिशे विफल रही।

कोशिशे नाकाम रही लेकीन इन कोशिशों के जरीये एक चेतावनी आसाराम बापु के लिये सदैव जस-की-तस थी और वो ये थी की ” साजिशों से सावधान “। यह चेतावनी आज सारे हिंदु धर्मगुरुऔ के लिये हैं और विशेष रुप से उनके लिये हैं जो अपनी पुरी कर्मठता ले धार्मीक जागरण में लगे हुवे हैं। Continue reading