Tag Archives: hindukush Afghanistan

हिंदुकुश : काला इतिहास

### हिंदुकुश ####

————-
आज तीव्र गती के भुकंप के झटके लगे, अफगानीस्तान का “हिंदुकुश” इलाका बना भुकंप का केंद्र : आज (८ जनवरी १६) की खबर
————-

क्या आपने सुना था कभी यह नाम???

हिंदुकुश : गुगल पर इस इलाके के बारे में छानबीन कजीयेगा, चौक पडेंगे…

अफगान जो आज पुरी तरह मुस्लीम बहुल इलाका बनाया जा चुका हैं उसके बावजुद वहाँ एसे नाम का इलाका सुनने में जरूर अचरज होता हैं, लेकिन इसका इतिहास जानकर दु:ख भी होगा|

जहाँ इस्लामीक कट्टरपंथीयो के जुल्मो ने अन्य धर्मीयों के नामो निशान मिटवा दिये वहीं इस इलाके का नाम आज तक हिंदुऔ से कैसे जुडा रह गया! विचार उठना स्वाभावीक हैं|

अफगान पर मुगल हमले के पुर्व वहाँ भी हिंदु ही रहा करते थे| जब मुगलों ने अपनी दरींदगी का तांडव शुरू किया तब उन्होने इस इलाके को चुना जहाँ वे उन हिंदुऔ को बंदी बनाकर इकट्ठा करते थे जो अपने हिंदु धर्म के सच्चे परायणी होते थे व इस्लाम स्वीकार करने से मना कर देते थे| अफगान का हिंदुकुश इलाका पुरी तरह पहाडीयों व खाडीयों से भरा हुवा हैं| एसे इलाके तक हिंदुऔ को लाने के लिये भी घुडसवार मुगल सेनीक भेड-बकीरीयों कि भाँती इन्हे घेरते हुवे व कोडे बरसाते हुवे लाते थे|

समय-समय पर एसे हिंदुऔ को इकट्ठा कर हिंदुकुश लाया जाता था ताँकी वे इन्हे इस्लाम को नकारने कि सजा दे सके| इसके लिये उन्हे कतार में खडा कर बारी-बारी से आगे लाते| पहले उनकी जनेउ उतार एक और फेकी जाती और फिर पुछा जाता – क्या तुम्हे इस्लाम कबुल हैं? यदी “हाँ” में जवाब मिला तो दुसरी कतार में अन्यथा वहीं सबके सामने उससे गर्दन झुकवा कर जल्लाद द्वारा कटवा दी जाती| इन तरीको से वे मौजुद लौगों में इस तरह का खौफ भरते थे की वे डर कर इस्लाम कबुल करले| कई लोग इस खौफनाक मंजर को देख कर इस्लाम कबुल कर लेते थे| लेकिन इन सब के बावजुद एसे-एसे धर्मात्मा भी होते थे जो अपनी मुंडी कटवाना आसानी से स्वीकार लेते लेकिन धर्म नहीं छोडते थे| इस सामुहीक हत्याकांड से कई बार यहाँ एक और जनेऊ का व दुसरी और कटे सिरो का पहाड तक बन जाया करता था|

हिंदुकुश इलाके के बारे में आप जब नेट पर खोजेंगे तो अन्य जो जानकारीया मिलेगी उनमे एक जानकारी यह भी होगी की हिंदुकुश नाम का मतलब क्या हैं…मुगल कालीन इतीहास के अनुसार इसका मतलब हैं – “हिदुऔ को मारो”|

इस इलाके का नाम अब तक नहीं बदला गया शायद यही कारण होगा कि कट्टरपंथी आज भी इसे हिंदुऔ पर अपनी बादशाही कि नीशानी का गढ मानते होंगे और संभवत: “हिंदुकुश” कि दहशत से ही उस दौरान अफगानीस्तान व बलुचीस्तान जैसे देश पुर्ण रूप से इस्लामीक बनाये जा सके|

हर हिंदु से प्राथना हैं कि जब भी यह नाम आपके समक्ष आये या याद भी आये तो यहाँ बलीदान हुवे अपने हिंदु भाईयों कि आत्मशांती के लिये प्रार्थना अवश्य किजीयेगा साथ ही गर्व किजीयेगा अपने पुरखो पर कि एसी दरींदगी भरे काल के बावजुद अपने धर्म को ना छोडा व आज भी हम एक हिंदु हैं|

वाकई …….  || गर्व से कहो हम हिंदु हैं ||

Advertisements