Tag Archives: Narendra Modi

हम तो भक्त ठहरे! 

*हम भक्त तो अवश्य ही हैं….*
कुछ लोग हमे मोदी भक्त कहा करते थे… हमे भी कहलाने मे गर्व ही महसूस होता था क्योंकि कोई हमे क्या कहे यह हमारी समस्या कभी रही ही नहीं। 
लेकिन ये क्या? कुछ दिन से हमने मोदी भक्ति छोड योगी भक्ति कि शुरूवात कर दी! आश्चर्यजनक हैं ना! कुछ लोग तो अब भी चक्कर खा रहे कि अब इन्हें मोदी भक्त कहे या योगी भक्त!!!
भाई, कन्फ्यूजन में मत रहो… जिस तरह मोदी भक्त का ठप्पा हमने गर्व से सिर माथे लिया वैसे ही योगी भक्त का ठप्पा भी सिर माथे लेने में उससे भी अधिक गर्व ही होगा। आप अपने शाही परिवार के शहजादो व दामादो का झंडा गाड़ते रहो फिर वे चाहे खुद को दमदार साबित करने के लिए मोदी व योगी पर कितने ही तंज अकारण कसते रहे। जिस तरह आप उसमें खुश…. हम अपनी भक्ति में खुश। 
दरअसल समस्या हमारी भक्ति में हैं ही नहीं क्यों कि हम तो हिंदुत्व नाम के रेगिस्तान में भटके उस यात्री कि तरह हैं जो जल के एक कुंड मात्र मिल जाने से उसे प्रभु के प्रसाद जैसा सम्मान देने लगते हैं। आखिर ये कुंड ही तो हैं जिनके सहारे हम और अधिक यात्रा (युद्ध) कर सकने कि हमारी क्षमता में वृद्धि कर सकते हैं। इसलिए हम तो भक्ति करेंगे ही और यह हमारा अंतिम निर्णय हैं। और हाँ, हम किसी एसे कुंड कि पूजा तो कतई कर नहीं सकते जो रेगिस्तान में दुर से कुंड नजर आये किंतु उसमें जल तो छोड़ो किचड से भी नदारद हो! इसलिए जिसे भी हमसे अपनी भक्ति करवानी हो वह स्वयं को उपस्थित कुंडो से भी विशाल करे। 
हालांकि, अब तो संघर्ष और भी जटिल हैं… क्यूँ की पहले तो प्रतिस्पर्धा मात्र मोदी से थी, अब तो सामने योगी नजर आ रहे! और यह तो विश्वव्यापी हो चुका हैं कि हिंदुत्व नाम के रेगिस्तान में एक कुंड बन कर जल संचय करना कितना तपस्वी हो चुका हैं। 
*… किंतु महाकाल के*
जय महाराष्ट्र 

Advertisements

“अच्छे दिन” की समझ – आपकी सोच का आईना हैं !!!

ये बात सच हैं कि नरेंद्र मोदी को प्रधान मंत्री बनवाने के लिये समुचे देश कि जनता ने एक मन बना कर मतदान किया लेकिन ये भी हकीकत हैं कि इनमें वे लोग काफी कम ही होंगे जीन्होने देश पर आरही आफत को आंकलन कर मोदी को समर्थन दिया हैं अधीकतर वे लोग हैं जिन्होने खुद पर आती आफत जैसे महंगाई, समाजीक अपराध और भ्रष्टाचार जैसी समस्याऔ से तंग आकर मोदी को समर्थन दिया हैं|

नरेंद्र मोदी की इतनी बडी जीत का मतलब तो साफ हैं की चाहे परेशानी का कारण चाहे भ्रष्टाचार हो या समाजीक उत्पीडन या देशहित का मुद्दा… सभी के विश्वास का केंद्रबींदु एक मात्र नरेंद्र मोदी के नाम पर आकर ही मील रहा था| Continue reading

सौगंध मुझे इस मिट्टी की

नरेंद्र मोदी जी की कविता
 
 
narendra-modi-kavita

narendra-modi-kavita

सौगंध मुझे इस मिट्टी की, मैं देश नहीं मिटने दूंगा।
मैं देश नहीं रुकने दूंगा, मैं देश नहीं झुकने दूंगा।।

मेरी धरती मुझसे पूछ रही कब मेरा कर्ज चुकाओगे।
मेरा अंबर पूछ रहा कब अपना फर्ज निभाओगे।।

मेरा वचन है भारत मां को तेरा शीश नहीं झुकने दूंगा।
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।।

वे लूट रहे हैं सपनों को मैं चैन से कैसे सो जाऊं।
वे बेच रहे हैं भारत को खामोश मैं कैसे हो जाऊं।।

हां मैंने कसम उठाई है मैं देश नहीं बिकने नहीं दूंगा।
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।।

वो जितने अंधेरे लाएंगे मैं उतने उजाले लाऊंगा।
वो जितनी रात बढ़ाएंगे मैं उतने सूरज उगाऊंगा।।

इस छल-फरेब की आंधी में मैं दीप नहीं बुझने दूंगा।
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।।

वे चाहते हैं जागे न कोई बस रात का कारोबार चले।
वे नशा बांटते जाएं और देश यूं ही बीमार चले।।

पर जाग रहा है देश मेरा हर भारतवासी जीतेगा।
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।।

मांओं बहनों की अस्मत पर गिद्ध नजर लगाए बैठे हैं।
मैं अपने देश की धरती पर अब दर्दी नहीं उगने दूंगा।।

सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।
अब घड़ी फैसले की आई हमने है कसम अब खाई।।

हमें फिर से दोहराना है और खुद को याद दिलाना है।
न भटकेंगे न अटकेंगे कुछ भी हो हम देश नहीं मिटने देंगे।।

सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा।
मैं देश नहीं रुकने दूंगा, मैं देश नहीं झुकने दूंगा।।

 

— श्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी —

वोट देने से पहले….

वोट देने से पहले….

> उस विरांगना का चेहरा जरूर याद कर लेना जीसके पती का सिर देश की रक्षा करते वक्त पाकिस्तान ले गया… और वो चिखती रह गई कि पहले मुझे मेरे पती का सिर ला कर दो Continue reading

अगर मोदी ना बन सके प्रधानमंत्री

मोदी लाओ, देश बचाओ

मोदी लाओ, देश बचाओ

वास्तव में, कुछ लोग यह आंकलन करने में समय बर्बाद कर देते हैं कि आखिर नरेंद्र मोदी प्रधान मंत्री बन भी गया तो क्या हो जाएगा लेकिन सोचने वाली बात तो यह हैं कि अगर नरेंद्र मोदी प्रधान मंत्री ना बन सके तो देश को किन-किन मुसबतों से गुजरना पड़ेगा। ऐसे ही कुछ भयभीत करदेने वाली सच्चाई पर लोगों का ध्यान केंद्रित करना बेहद जरूरी हैं।

अगर नरेंद्र मोदी प्रधान मंत्री ना बन सके तो….
> भारत में अमेरिकी कंपनीयो के राजनीतीक हस्तक्षेप चरम पर हो जायेंगे
> देश की राजनीतिक अस्थिरता के चलते विदेशी ताकते अप्रत्यक्ष रूप से देश पर हावी होगी
> देश की गिरती अर्थव्यवस्था को संभालना नामुमकिन हो जायेगा क्यूंकि सबसे पहले हाथ खीचने वाले विदेशी निवेशक ही होंगे
> देश के कट्टरपंथी जो मोदी को रोकने के लिये एडी-चोटी का जोर लगा रहे हैं, उनके हौसले बुलंद हो जायेंगे और फिर इनकी कट्टरता के अत्यधिक दुषपरिणाम असमाजिक तत्वो  कि भरमार स्वरूप मिलेगा
> आतंकवादी, जिनके अबतक मोदी कि आहट से हाथ-पाँव फुले हुवे हैं, वे पुर्णतया बेलगाम हो कर और अधिक रूप से सक्रिय हो जायेंगे
> पाकिस्तान और चीन जो रह-रह कर भारत को छेडते आ रहे हैं वे भी बेखोफ हो कर अपनी दबंग-गिरी पर उतर आयेंगे जिससे सिमा पर भारी अशांती की स्थीती बन जायेगी जिससे सीमा सुरक्षा का खतरा बढ़ जाएगा
> पाकिस्तान में बढ़ते तालिबानी वर्चस्व से साफ़ नजर आता हैं कि पकिस्तान पर जल्द ही तालिबानी कब्जा होने वाला हैं ऐसी स्थिति में उनका पहला लक्ष्य कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत में आतंकवाद फैलाना और यहाँ तक कि जंग छेड़ देना।
> अगर बैगर सक्षम प्रधान मंत्री के देश को युद्ध के दौर से गुजरना पड़ा तो अवश्य ही ये वो भयावह स्थिति होगी जिसकी कल्पना और अंजाम रोंगटे खड़े कर देता हैं
> देश के अल्पसंख्यक और पिछडा वर्ग जो आजतक मात्र वोट बँक की राजनीती का शिकार होता आया हैं, वो एकबार फिर अपनी हक से वंचीत हो जायेगा क्युँ की इस वर्ग का सबसे अधीक वीकास अगर कहीं हुवा हैं तो वो मात्र मोदी के शासन में हुवा हैं
> देश में संप्रदाईकता के नाम पर हिंदुत्व का घला घौटा जायेगा, सेक्युलरता के नाम पर सारी हिंदुत्व विरोधी ताकते एक झुठ हो कर अपना वर्चस्व साबीत करने में लगजायेगी
> देश कि सेना का मनोबल धराशायी होगा क्युँ की हाल की कई घटनाऔ में भारत सरकार के लचीले रवईय्ये को लेकर वे पहले से ही नाराज हैं और मोदी से उनकी काफी उम्मीदे जगी हैं
> स्वदेशी उद्योग जगत में नीराशा फैलजायेगी जिसकी कमर पहले से काँग्रेस शासन के चलते टुट चुकी हैं
> राजनैतीक अस्थीरता के चलते महंगाई कि मार और अधिक बढेगी जिसका सबसे बुरा असर मध्यम वर्गीय और गरीब जनता पर पडनेवाला हैं
> कृषी जगत को बहोत बडा नुकसान झेलना होगा क्युँ की मोदी एक मात्र एसे नेता हैं जिसने किसानों को उद्योगपती की श्रेणी में लाकर खडा किया और हर नीती में किसानों के विकास को प्राथमीकता प्रदान की
> देश के घटते पशुधन को बचाने वाली मुहीम को भारी झटका लगेगा क्युँ की आजादी के बाद से गौ-हत्या पर संपुर्ण पाबंदी लगाने कि मांग करने वाले गौ-भक्तो कि पुरी उम्मीदे अब मात्र नरेंद्र मोदी से टिकी हैं
> सोशियल मिडीया से जागृत और संघठीत हुवे देशभक्तों का मनोबल भी धराशाही होगा जो की देश के भवीष्य के लिये दु:खद दायी होगा
> देश में लोकतंत्र कि ये सबसे बड़ी हार होगी क्यूंकि आज देश का एक बड़ा वर्ग एक मात्र नरेंद्र मोदी को प्रधान मंत्री के रूप में देखना चाहता हैं

ये वे मुसीबते हैं जिन्हे ना ही कोई भारतवासी झेलना चाहेगा और ना ही ये देश हित में हैं।  देश को बचाने का एक मात्र मौका हैं। कृपया इसे अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचाए।

जागो और जगाओ, देश बचाओ !!!
अभी तो करोड़ों को जगाना हैं !!!

क्या लखनऊ, क्या वाराणसी (कवीता)

image

क्या लखनऊ, क्या वाराणसी
जब साथ खडा हर भारतवासी
हर आँखो में अब अरमान जगा हैं
रही ना दुसरी कोई आस बाकी

सौ-सौ कजरी-राहुल हाथ मिलाले
नमो सुनामी को रोक नहीं पायेंगे
जीत के आयेंगे दम पर अपने
देश के कोने-कोने में नमो छा जायेंगे

बीजेपी के नाम पर खडा कर दो जीसे भी
अब किसी को क्या फरक पड जायेगा
क्युँ की बटन कमल का दबाते वक्त भी
हमें तो चेहरा सिर्फ नमो का नजर आयेगा

— संजय त्रिवेदी

आपका 20 :: ‪‎मोदी‬ का 272+

20 to 272+

20 to 272+

# आपका 20 :: ‪#‎मोदी‬ का 272+ #

२०१४ के महासंग्राम के सिपाही बने और अभी से अपने दोस्तों-रिश्तेदारों के मात्र २० मोबाईल नंबर एसे जमा करलो जो नीश्चीत रूप से मोदी को वोट देंगे.

चुनाव के दिन सुबह से इन नंबरो को थोडी-थोडी देर में काल करते रहो जबतक की इन्होने वोट ना डाल दीया हो.

इस छोटे सी मेहनत का असर दम-दार नतीजा शतप्रतीशत होगा, साथ ही आपको भी खुद पर गर्व होगा.

आज देश आपका योगदान मांग रहा, कृपया ये छोटी सी जीम्मेदारी अवश्य ही उठाये.

इस दफा चुनाव जनता को लडना हैं : क्या आप तयार हैं???

नोट: अगर आप मोदी की इस लडाई से सीधे जुडकर अपना योगदान देना चाहते हैं तो कृपया email में अपना मोबाईल नंबर + pincode दे सकते हैं.

जय हिंद, जय भारत!