Tag Archives: UPA

मरती हुई कांग्रेस में जान फूंकी हैं केजरीवाल ने !!!

मरती हुई कांग्रेस में जान फूंकी हैं केजरीवाल ने

मरती हुई कांग्रेस में जान फूंकी हैं केजरीवाल ने

अब तक ये तो सभी जान चुके हैं कि #AAP कोई नैतिकता पालने वाला राजनेतिक दल नहीं बल्कि विदेशी ताकतो कि रखेल कांग्रेस का ही दूसरा चेहरा हैं। 2104 के लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस को इस दूसरे चेहरे का कितना फायदा हो पायेगा ये कहना अभी मुश्किल भले ही हैं लेकिन इसने आज भी कांग्रेस बदतर हो रही हालत को सम्भाला हैं।

#कांग्रेस पर केजरीवाल के एहसान का अनुमान सिर्फ इस बात के आंकलन से ही आप लगा सकते हैं कि यदि इस चुनाव में #आप का जन्म ना हुवा होता तो अकेले कांग्रेसी सोशियल मीडियां पर दिन-रात कितनी ही गालिया खा रहे होते , लेकिन केजरीवाल ने अपनी उपस्थिति से कांग्रेस कि सारी गालियों को अपने सर आँखों पर ले लिया।

आज हर वो शख्स जो कांग्रेस को दिन-रात, भर-भर  के कौसा करता था , अब सबसे पहले #केजरीवाल और #आप के लोगों पर अपना गुस्सा निकलता हैं। अपनी नीचता और सड़क पर कि गई औंछी नौटंकी से लोगों के मन में कांग्रेस के खिलाफ भरे हुवे उबाल केजरीवाल ने अपनी और मुड़ा लिया हैं।

#आप आने के पहले कांग्रेस एक मात्र लोगों का निशाना बनी हुई थी और सबसे निचले दर्जे का दल बनी हुई थी। लेकिन अब आप किसी से भी पूंछेंगे तो वो कांग्रेस को तो #आप से भला ही बतायेगा।

यह नुस्का बिलकुल वैसा ही हैं कि एक कोरे कागज पर खिंची गई लकीर को बैगैर छेड़े अगर छोटा साबित करना हो तो उसके बगल में उससे भी बड़ी लकीर खीच दी जाए। अब पूछिए किससे भी कौनसी लकीर छोटी हैं… जवाब मिलेगा पहली वाली!!! ठीक वैसे ही एक हद से गिरी हुई कांग्रेस को अच्छा बनाने के लिए उससे भी अधिक गिरी हुई और औंछि हरकते करने वाला दल पैदा कर दो , तो सबकी नजर में पहले वाली कांग्रेस कि स्थिति अच्छी हो जाती हैं और-तो-और बैगेर कोई भला काम किये…. हैं ना कमाल !!!

नरेंद्र मोदी को केजरीवाल रोक पाएंगे इसके तो कोई असार नजर नहीं आते , लेकिन कोंग्रेसियों के लिए केजरीवाल ने बड़ा ही उद्धार का काम किया हैं , यकीं मानो !!!

सारांश : इस देश से “कांग्रेस” का अंत बेहद जरुरी हैं।

जागो और जगाओ , देश बचाओ !!!
अभी तो करोडो को जगाना हैं !!!

दिल्ली में खुद काँग्रेस ने करवाया अपना सुपडा साफ !!!

image

चार राज्यों के चुनाव में कांग्रेस को करारी हार भले ही मिली हो लेकिन दिल्ली को लेकर भारत कि राजनीति में काँग्रेस रुपी विदेशी ताकतों ने बहोत बडा गेम खेला हैं। ये गेम काँग्रेस ने अपनी पेदाईश “आप” पार्टी को साथ लेकर खेला हैं।

बंदुक और निशाना काँग्रेस (विदेशी ताकतों) का था, कंधा कजरिवाल का वापरा गया और लक्ष्य चुनाव 2014 ।

दिल्ली में “आप” पार्टी कि कोई औकात नहीं थी कि वे इतनी सिटे जित कर ले जाये जब तक कि काँग्रेस अपनी लडाई से पिछे ना हट पडे।

दिल्ली में काँग्रेस हारी नहीं बल्कि काँग्रेस ने खुद हार को गले लगाया और कजरीवाल ने जित खुद के दम पर हाँसील नहीं कि बल्कि काँग्रेस ने हर तरह से “आप” को पैर पसारने का मौका देकर जित दिलाई।

अब सवाल खडा होता हैं कि आखिर इसके पिछे कि पुरी साजिश हैं क्या….

ये एक बहोत बडा षडयंत्र जो कि लंबी रणनिती के तहत खेला गया हैं। इस षडयंत्र को चुनाव के पहले सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि देशभर में किये गये तमाम सर्वेक्षणों के नतिजों के बाद तयार किया गया हैं।

हर तरह के चुनावी सर्वेक्षण में हर राज्यों में काँग्रेस की करारी हार सामने आ ही रही हैं। लेकिन काँग्रेस किसी भी तरह से अपनी इस “हार” को बीजेपी के गले की “विजय” माला बनने नहीं देना चाहती। और जनता का मुड भी काँग्रेस अच्छी तरह से भाँप चुकी हैं कि किसी भी परिस्थिति में जनता अब काँग्रेस को वोट नहीं देने वाली।और नरेंद्र मोदी के हाथ में देश कि कमान काँग्रेस बर्दाश्त कर ही नहीं सकती। लेकिन नरेंद्र मोदी का तोड अब काँग्रेस के जरीये निकलना असंभवसा हैं। इस लिये काँग्रेस ने अब अपनी रणनीती को बदलते हुवे पैतरा ही बदल लिया।

दिल्ली में “आप” का कद बढवाकर काँग्रेस ने कई निशाने साधे हैं…
1) “आप” को जितवा कर काँग्रेस ने कजरीवाल को हिरों बनाने कि कोशिश कि हैं
2) सारे काँग्रेसी दलाल मिडीया जिनको मजबुरी में नरेंद्र मोदी का ही नाम लेना पडता था वो अब कजरीवाल को मोदी कि तुलना में खडा करेंगे
3) विदेशी ताकतों ने पहले ही कजरीवाल पर भारी भरकम पैसा लगा रखा हैं अब विदेशी पैसों पर ही पलने वाला भांड मिडीया पुरी ताकत लगाकर कजरीवाल को नरेंद्र मोदी के टक्कर में खडा करने कि कोशिश करेगा
4) इसका मतलब लोकसभा चुनाव में जो वोट काँग्रेस से कट कर बीजेपी को जा रहे थे अब उन्हे कजरीवाल के खाते में उतारा जायेगा
5) विदेशी ताकतों ने अपनी रखेल काँग्रेस को अब नई खाल “आप” पार्टी के रुप में उतार दिया हैं

होशियार!  होशियार! होशियार! यह नरेंद्र मोदी कि बढती ताकत पर कठोर अंकुश लगाने का राष्ट्र विरोधी विदेशी ताकतों का बहोत बडा गेम प्लान नजर आ रहा हैं।हमें हर किसी को होशियार करने कि सख्त आवश्यकता हैं।

जागो और जगाऔ, देश बचाऔ !!!

जय हिंद, जय भारत!!!

नरेंद्र मोदी कि हत्या कि साजिशो पर पर्दा क्यूँ ?

टारगेट नरेंद्र मोदी

टारगेट नरेंद्र मोदी

पटना ब्लास्ट को मुजफ्फर नगर के दंगो से जोड़ने की साजिश !!!

> इन ब्लास्ट का निशाना जहां आम जनता थी वहीँ मुख्य निशाना नरेंद्र मोदी थे क्यूंकि जहां से मोदी ने भाषण दिया उसी जगह से एक जिन्दा बम पहले ही बरामद किया गया था…हुंकार रैली में नरेंद्र मोदी को मानव बम के जरिए मारने की साजिश थी!
http://m.aajtak.in/story.jsp?sid=745810&secid=13 Continue reading

क्या मोदी समर्थक हैं मोलाना मदनी !!!

image

मित्रों,  मैं भी यह मानता था और कई दुसरे लोग भी मोलाना मदनी को मोदी समर्थक के रूप में पेश किये जा रहे हैं…

लेकिन आपकी अदालत मे मदनी कि बोली से साफ-साफ नजर आ रहा हैं कि मदनी साहब मात्र मुस्लिमो के हित की बात करने वाले ही नेता हैं और उनकी सोच में मुस्लिम समुदाय का भला देश के भले से बडी प्राथमिकता हैं। Continue reading

I Hate Politics!!! ……think again!

अच्छे नेता, उज्वल भविष्य

अच्छे नेता, उज्वल भविष्य

आज किसी भी पढ़े लिखे से अगर पूछे की आपका पसिंदिदा कलाकार, अभिनेत्री या खिलाडी  कोन हैं तो ख़ुशी-ख़ुशी बताएगा लेकिन अगर पूछा जाये की आप का पसंदीदा नेता कोन हैं तो बड़े रुवाब में शायद जवाब निकल जाएगा – I Hate Politics !!!

फिल्मो के कलाकार या खिलाडी कितने भी अपने क्षेत्रों में निपूर्ण क्यूँ न हो क्या वे देश को समृद्ध बना सकते हैं ? क्या बढती महंगाई पर लगाम लगा सकते हैं ? क्या आपके बच्चो का भविष्य बना सकते हैं ? जवाब हैं नहीं।

लेकिन यही प्रश्न राजनीती के विषयं में अगर करेंगे तो जवाब हैं – हाँ!!! Continue reading

डॉ. सुभ्रमनियम स्वामी के साथ क्रांतिकारियों की मुलाकात

Dr. Subhramaniyam Swami

Dr. Subhramaniyam Swami

डॉ. सुभ्रमनियम स्वामी के साथ सोशियल मिडिया क्रांतिकारियों की मुलाकात, घाटकोपर, मुंबई

प्रमुख मुद्दे:

✔ यह साफ़ तोर पर तय हैं की NDA 300 से अधिक सीटें जीतेंगी और इसमें कोई शक नहीं। #Paidmedia पर विश्वास मत करो. वे मतदाता को भ्रमित करने करने का लक्ष्य ले कर ही काम कर रहे हैं।

✔ किसी भी राज्य का प्रशासन दंगा रोकने में 100% सक्षम हैं और वे यदि चाहे तो यह भी सुनिश्चित कर सकते हैं की भविष्य में कोई दंगा ना हो, गुजरात में यह साबित कर दिया है. (पिछले 10 सालों में एक भी दंगे नहीं हुवे)

✔ राष्ट्र के पास न केवल आंतरिक रूप से विकास की शक्ति हैं बल्कि दुनिया का नेतृत्व करने की क्षमता भी हैं।

✔ चीन सिर्फ हमारी मंद बुद्दि यूपीए सरकार का आनंद ले रहा है।

✔ बांग्लादेशि कोई बड़ा मुद्दा नहीं हैं. बांग्लादेश को या तो उन्हें वापस लेना होगा अन्यथा उसे उतनी जमीं भारत को देनी होगी। कमी हैं सिर्फ हमारे निर्णायक फैसले की जो की मौजूदा सरकार के बस की बात नहीं।

✔ पाकिस्तान पर तालिबान जल्द ही कब्ज़ा कर लेने वाला हैं और जिसके बाद उसका मुख्य लक्ष्य भारत होगा, लेकिन भारत अभी तक इसके लिए तैयार नहीं है! यूपीए सरकार की बड़ी नाकामी।

अगर NDA की सरकार आई तो इन बातो पर प्राथमिकता होगी …
1) व्यक्तिगत कर से सम्पूर्ण मुक्ति
2) विदेशी बैंक में पड़े सभी काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित किया जाएगा
3) कश्मीर कश्मीर से धारा 370 हटाकर कश्मीर को भी देश के अन्य राज्यों की श्रेणी में लिया जाएगा
4) सभी जातिगत मुद्दों का समाधान कर आपसी भाई चारे को फैलाना बड़ी जिम्मेदारी
5) पूरे देश की नदियों को जोड़ा जाएगा – जिसके लाभ कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूती, जल परिवहन, समग्र विकास में स्थिति, बाढ़ या सूखे जैसी आपदाए कम होगी,
6) गोरक्षा कर सफ़ेद क्रांति को बढ़ावा और UPA की गुलाबी क्रांति की रोक थम

जागों और जगाऔ देश बचाऔ!!!
अभी तो करोडों को जगाना हैं!!!

जय हिंदी! जय भारत!!!

दिल्ली में शिला आँटी की फिर बन सकती हैं सरकार!!!

image

Corrupt Delhi Government

ये अंदाजा लगाया हैं IBN7 पर दिखाये गये एक सर्वे में। हुवा ना आश्चर्य!!!

दुसरा आश्चर्य ये हैं की सोशियल मिडीया में सबसे भारी संख्या अगर किसी शहर के युवाओं की हैं तो वो दिल्ली शहर के हैं!!! Continue reading