Tag Archives: use facebook for country

कैसे घौटोगे गला करोंडो हिंदुस्तानीयों का !!!

image

Fight for Freedom

अब काँग्रेस चौकडी के खिलाफ फेसबुक/ट्विटर पर लिखने वालों को हिरासत में लेने कि मुहीम चल पडी हैं।  सोशियल मिडीया पर क्रांति फैलाने वाले इन सत्ताधारीयों को पसंद नहीं  आ रहें !!! ये कुकर्म कर सकते हैं लेकिन हम इनके कालेकारनामों का प्रचार भी नहीं कर सकते !!!

अब तो इनके खिलाफ हर किसी को खडा हो कर सोशियल मिडीया पर मोर्चा सँभालना ही होगा। अगर इस नेक काम में हर व्यक्ति अपना सामर्थ्य देने लगे तो किस-किस को हिरासत में लेंगे ये, क्या ये संभव हैं।

मेरा सवाल उनसे हैं जो सोशियल मिडीया पर रहते हुवे भी अबतक इसे सिर्फ मनोरंजन के तौर पर इस्तेमाल करते हैं।

क्या हम वाकई आजाद हैं?

अगर जवाब “हाँ” में हैं… तो जरा सोचिये, ये कैसी आजादी !!!

और अगर जवाब “ना” में हैं… तो हम आवाज क्युँ नहीं उठाते ?

क्या आवाज उठाने में हमें डरना चाहिये ?

हो सकता हैं कि हमारे मन में डर भी उठे…

लेकिन जरा उन हजारों-लाखों क्रांतिकारियो के विषय में भी सोचे जिन्होने वंदेमातरम् कि गुंज उस माहोल में उठाई थी जब इसके जवाब में उनपर लाठीयाँ चला दी जाती थी !

उस कठिन समय में भी उन्होने गद्दारों को खुन भरी आँखे दिखाई जिसमें उनकी आँखे निकाल ली जाती!

और उन परिस्थिति में भी तिरंगे को हाथ से नहीं छुटने दिया जब उन्हे तोप के आगे खडा कर उडा दिया जाता था !!!

एसे लाखों क्रांतिकारीयों ने खुद को बलिदान किया ताकी इनकी पुश्ते, यानी की हम, सुख-चैन कि जिंदगी जी सके।

क्या आपकों नहीं लगता कि इन बलिदानीयों कि वजह से ही हमें आज उन परिस्थितियों से नहीं जुझना पड रहा जिन परिस्थितियों को मात्र सुनकर आज हमारे रोंगटे खडे हो जाते हैं।

जब ऐसे माहोल में भी हमारे पुरखों नें हौंसला नहीं छोडा तो आजादी के इस अंतीम दौर में हम क्यों पिछे हटे !!!
क्या हम अपना जिवन सिर्फ भोग-और-विलास के लिये गुजार दे !!!
जिस तरह से बलिदानीयों ने हमारे विषय में सोचा क्या हमारा फर्ज नहीं कि हम भी हमारी आने वाली पीढी के बारे में भी सोचे और इस भ्रष्टतंत्र और देश-द्रोही तंत्र को उखाड़ फेकें !!!

गुलामी का महासागर तो हमें हमारे विर स्वतंत्रता के सेनानीयों ने पार करवा दिया अब तो मात्र विचारों का युद्ध लडना हैं। और इस युद्ध का ब्रम्हास्त्र सिर्फ एक ही हैं और वो हैं सोशियल मिडीया।

हमें अपनी आवाज उठाने से कोई नहीं रोक सकता क्युँ की—  स्वराज्य हमारा जन्मसिद्ध अधिकार हैं।

∴ सोशियल मिडीया में कार्यरत सभी क्रांतिकारीयों को कोटी-कोटी नमन∵

जय हिंद, जय भारत !!!

image

लोकतांत्रीक देश में सोशिय मिडीया एक वरदान

image

सालों से लुटते हुवे भी देशपर अगर काँग्रेस ने राज किया तो इसका दोष कुछ समझदार जनता को देते हैं। और ये भ्रष्ट नेता भी बडे शान से कहते हैं कि हमे तो जनता ने ही चुना हैं।

हाँ कुछ हदतक सही भी हैँ  लेकीन पुरा सच नहीं। वास्तव में इसका दोष पुरी तरह से देश के संचार तंत्र(मिडीया) को ही जाना चाहीये।

पत्रकारों ने अपनी पत्रकारिता को काँग्रेसी तंत्र की रखेल बनाकर रखा। देश कि वास्तविकता से जनता को पुरी तरह से अंजान रखा और गद्दारों को देशभक्त का चोंगा पहनाकर पेश किया गया।

लेकिन आज जब से सोशियल मिडीया का प्रसार हुवा हैं भांड मिडीया का भेडीयाई चेहरा उजागर हो चुका हैं।

अब देश की जनता वास्तविकता जानने के लिये, और बनावटी माहोल को पहचानने के लिये इन दलाली पत्रकारों के अधीन नहीं रही। अब जनता ने सोशियल मिडीया के जरीये दौगले मिडीया जगत को उनका आईना दिखा दिया हैं। आज करोडों रूपये वाली खबरी दुकान की बुनीयादी जडे हिलनी शुरू हो चुकी हैं। सोशियल मिडीया कि आहट मात्र से मक्कार पत्रकारों की नींद उड चुकी हैं। ये सब संभव उस सोशियल मिडीया के बलबुते हुवा हैं जिसमें पत्रकारीता कि भुमीका में कोई बडबौला पत्रकार नहीं बल्कि आम जनता खडी हैं।

पहले बीकाऊ मिडीया जनता को वो दिखाता था जो काँग्रेसी तंत्र दिखाना चाहता था। लेकिन अब जनता सिर्फ वही देखती हैं जो वो देखना चाहती हैं।

भांड मिडीया ने गाँधी परीवार को हमेशा शाही परीवार के स्वरूप में पेश किया  लेकीन इस शाही शक्सियत के पिछे का घिनोना चेहरा कभी जनता के सामने नहीं आने दिया। लेकिन आज सोशियल मिडीया नें इस शाही परिवार का नकाब उतार दिया हैं।

सच तो ये हैं कि विश्व के इस सबसे बडे लोकतंत्र में आज तक जनता कि आवाज को या तो मिडीयाई तंत्र ने अपने शब्दों में ढालनें का खेल खेला या फिर काँग्रेसी तंत्र नें सरकारी शक्ति का उपयोग कर दबा दिया।

लेकिन सोशियल मिडीया इन गद्दारी तंत्र के खिलाफ वो ब्रम्हास्त्र बन कप उभरा हैं जिसके इनके हर पैतरों को नेस्तो-नाबुत कर दिया हैं। आज सोशियल मिडीया कि वजह से अपनी सल्तनत को हिलती देखकर इनके रोंगटे खडे हो चुके हैं। लोकतंत्र कि सत्ता का सुख भौग रहे इन भ्रष्टाचारीयों को अब सोशियल मिडीया के जरीये उठ रही आम जनता की आवाज सहन नहीं हो रही। इसलिये रह-रह कर सोशियल मिडीया के विरोध में बयान-बाजी में लगे हुवे हैँ। लेकिन अब इस आँधी को रोकपाना इनके बस का रोग नहीं।

यंकिन मानो, यह तो सोशियल मिडीया क्रांति कि सुरूवात मात्र हैं। जैसे-जैसे सोशियल मिडीया विस्तारीत होगा आम जनता कि आवाज प्रबलता मिलेगी। और ये हमारे लोकतांत्रीक देश के लिये शुभ-संकेत हैं।

कुछ और बाते जो सोशियल मिडीया को दुसरे मिडिया से हटकर विशेष बनाती हैं…
> सोशियल मिडीया कि खबरों पर किसी भी तरह से किसी का एका-अधिकार नहीं
> सोशियल मिडीया ने हर आम आदमी को अपनी बात रखने का एक मंच प्रदान किया हैं
> सोशियल मिडीया पर वे ही खबरें वर्चस्व पाती हैं जिसे लोगों का समर्थन मिलता हैं
> सोशियल मिडीया पर भी बिकाऊ खबरें होती जरूर हैं लेकिन जनता के समर्थन के अभाव में वे खुद ही अपना दम तोडदेती हैं और मुख्यरूप से उस पर “स्पोंसर्ड” का टेग लिखा मिलता हैं
> यहाँ तक की लोगों के समर्थन भी खरीदे जा सकते हैं लेकिन ये हर खबर के लिये मुमकिन नहीं और एक हद के बाद वो भी विफल हो सकता हैं

बिकाऊ मिडीया के विरोध में और उनकी राष्ट्र-विरोधी षडयंत्र के खिलाफ सभी देशभक्तो से आग्रह हैं कि सोशियल मिडीया को हथीयार बना कर माँ-भारती का कर्ज उतारे।

जागो और जगाऔ, देश बचाऔ !!!
अभी तो करोडों को जगाना हैं !!!

जय हिंद, जय भारत !!!

दिल्ली में शिला आँटी की फिर बन सकती हैं सरकार!!!

image

Corrupt Delhi Government

ये अंदाजा लगाया हैं IBN7 पर दिखाये गये एक सर्वे में। हुवा ना आश्चर्य!!!

दुसरा आश्चर्य ये हैं की सोशियल मिडीया में सबसे भारी संख्या अगर किसी शहर के युवाओं की हैं तो वो दिल्ली शहर के हैं!!! Continue reading

कजरिवाल की पोल-खोल [Banner]

कजरिवाल के पोल खोल करते ये लिंक!!!

किसी भी कजरिवाल समर्थक का मुह बंद करने के लिए इन लेखों अवश्य उपयोग करे, इनमे से किसी भी लेख का तोड़ आज तक कोई भी कजरिवाल समर्थक नहीं दे सका…

कज्रिवाल पर स्वयं का आंकलन बेहद जरुरी हैं http://bit.ly/RRLoMK

कज्रिवाल, मिडिया और साजिश http://bit.ly/Qy8bgZ

कज्रिवाल: तिन सवाल और उसके जवाब http://bit.ly/10vuiMX

बस युहीं….हो गयी बहस!!! http://bit.ly/S2MYRJ

सामाजिक एवं अन्य [Banner]

कांग्रेस हटाओ, बीजेपी लाओ!!! [Banner]